सूबे में हो रहा गैर कानूनी तरीकों से काम

भोपाल। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने हाईकोर्ट द्वारा भाजपा विधायक प्रह्लाद लोधी की सज़ा पर रोक लगाने के फैसले का सपोर्ट किया है। उन्होंने कहा कि उनकी सदस्यता स्वयं बहाल हो जाती है, अगर हुज्जत करना है तो उसके कई तरीके हैं। और मुझे लगता है कि विधानसभा हुज्जत करने के लिए या परस्पर संघर्ष करने के लिए मंच तैयार कर रही है। मध्यप्रदेश में अग्रेस विधान और संविधान चल रहा है, जिसका शिकार प्रह्लाद लोधी भी हो गए हैं। अल्पमत की सरकार को बहुमत में बदलने के लिए जिस तरह के गैर कानूनी तरीके और प्रावधानों से काम हो रहा है जिससे समूचा लोकतंत्र शर्मसार है।

उन्होंने आगे कहा कि मैं फिर से अपेक्षा करूंगा कि हाईकोर्ट का जो आदेश है उसके परीप्रेक्ष में तत्कार प्रहलाद लोधी की सदस्यता बहाल करके उन्हें जनकल्याण,जनसमस्याएं उठाने का उनके क्षेत्र की समस्याए उठाने का मौका दिया जाए। जब उनसे चंद्रशेखर आजाद की मूर्ति हटाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि देश को आजाद कराने में, बलिदान और संघर्ष के बारे में चंद्रशेखर आजाद जैसी मिसाल कहीं नहीं मिलेगी। और यदि उनकी तुलना किसी राजनैता से करें और उनकी प्रतिमा से ज्यादा उन्हें महत्व दें तो यह उनका अपमान है। यह सिर्फ देशभक्त का बल्कि पूरे देश का अपमान है।

Related posts