साध्वी प्रज्ञा, किसानों के मुआवजे और चिट फंड कंपनियों पर क्या बोले पीसी शर्मा…

भोपाल। साध्वी प्रज्ञा के नाथुराम गोडसे को देशभक्त देने वाले बयान तूल पकड़ता जा रहा है। विपक्ष भाजपा सरकार और पीएम मोदी पर कटाक्ष कर रहा है। इसी कड़ी में मध्यप्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि अगर भाजपा की महात्मा गांधी और सरदार पटेल में जरा भी आस्था है तो उन्हें साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर की लोकसभा की सदस्यता खत्म करना चाहिए। क्योंकि लोकसभा प्रजातंत्र का मंदिर है, जहां गांधी जी के हत्यारे को महिमामंडित करना उन्हें देशभक्त कहना लोकतंत्र की हत्या है, पीएम नरेंद्र मोदी साध्वी की सदस्यता खत्म करें नहीं तो गांधी जी और सरदार पटेल का नाम लेना बंद कर दें।

वहीं मध्यप्रदेश की तीन राज्यसभा सीटों के खाली होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मौका आने पर विधानसभा के सदस्य फैसला करेंगे। जब उनसे कुपोषण को दूर करने के लिए 3 हजार 32 डे केयर सेंटर खोले जाने पर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार जो कहती है वहीं करती है। भाजपा सरकार केवल वादे और घोषणाएं करती थी। वहीं मध्यप्रदेश में कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि अतिवृष्टि से फसलों को हुए नुकसान के मुआवजा के तौर पर किसानों को 25 प्रतिशत राशि दी जाए, इस पर मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि 16 हजार करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है। केंद्रीय दल ने 7 हजार करोड़ का आकलन किया, लेकिन मुआवजा नहीं दिया। सीएम कमलनाथ अपने आर्थिक मैनेजमेंट से 25 प्रतिशन मुआवजे से शुरूआत कर रहे हैं। बाकी मुआवजा भी किसानों को दिया जाएगा।

वहीं एक पंचायत में एक परिवार का हुक्का पानी बंद देने के बायान पर कार्रवाई नहीं के सवाल पर उन्होंने कहा कि समाज में ऐसी प्रथाएं चली आ रही हैं। ज्यादातर तो बंद हो गईं हैं लेकिन इक्का दुक्का जगह ऐसी प्रथाएं हैं, मामले को संज्ञान में लेंगे और उसका निराकरण करेंगे। वहीं चिट फंड कंपनियों की सक्रियता पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में बहुत सी चिट फंड कंपनियों ने आम लोगों के साथ धोखाधड़ी की है। जिन्हें बख्शा नहीं जाएगा कार्रवाई अवश्य होगी।

Related posts