संबल योजना घोटाले पर बोले शिवराज, क्या गरीबों को लाभ देना घाटाला होता है…

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कार्यकाल में प्रदेश में संबल योजना में घोटाला हुआ था। श्रम विभाग की जांच में खुलासा हुआ कि 71 लाख परिवार अपात्र होने के बाद भी उन्हें संबल योजना का लाभ दिया और 6816 करोड़ की राशि बिजली सब्सिडी के तौर पर दी गई। इस पर शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे बौखलाए लोग हैं जो प्रदेश को लूट लूटकर खा रहे हैं, उन्होंने कहा कि संबल के 3 क्राइटेरिया थे, जिसमें शासकीय सेवा में नहीं होना चाहिए, इंकम टेक्स पे होना चाहिए, 5 एकड़ से ज्यादा जमीन नहीं होना चाहिए, इसके नीचे जो लोग थे वे सब संबल योजना के पात्र थे और ये सरकार उनको लाभ देना नहीं चाहती है। पता नहीं कहा से घाटाले की बात ले आती है…क्या गरीबों को लाभ देना घाटाला होता है।

उन्होंने आगे कहा कि घोटाला अगर हो गया तो करने वालों को जेल भेजो कौन मना कर रहा है। सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि गरीबों के हक छीनने वालों को जनता करारा जवाब देगी। इस सरकार ने गरीबों का गला घोट दिया…संबल योजना बंद कर दी…बिजली के बिल हजारों रूपए आ रहे हैं। गरीब की लाश से कफ़न के 5 हजार छीन लिए। इस सरकार ने भ्रष्टाचार के नए रिकार्ड स्थापित किए हैं। पूरा मध्यप्रदेश तबाह करने में लगे हुए हैं।

Related posts