विधायक लोधी को इंसाफ दिलाने जाएंगे कोर्ट: शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। मध्य प्रदेश की पवई विधानसभा सीट से भाजपा विधायक प्रह्लाद लोधी की विधानसभा सदस्यता निरस्त कर दी गई है। मध्य प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नर्मदा प्रजापति ने तहसीलदार से मारपीट के मामले में बीजेपी विधायक को दो साल की सजा सुनाए जाने के बाद यह निर्णय लिया। जिसके बाद से प्रदेश की सियासत गर्मा गई। भाजपा लगातार इस फैसले का विरोध कर रही है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विधायक प्रह्लाद लोधी के समर्थन में आ गए हैं। उन्होंने विधानसभा सचिवालय का आदेश दिखाकर कहा कि संविधान की धारा 191 के तहत प्रह्लाद लोधी निरहित हो गए हैं। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिस धारा के अंतर्गत प्रह्लाद लोधी की सदस्यता विधानसभा अध्यक्ष ने निरस्त की है, उसका अधिकार उन्हें है ही नहीं, इसका अधिकार राज्यपाल को है।

कांग्रेस को प्रह्लाद लोधी मामले में कार्रवाई करने की जल्दी क्या थी। विधायक को जो अधिकार है उसका प्रयोग तो उन्हें करने का वक्त देते। उन्होंने कहा कि राजनीतिक विडबेश के तहत यह कार्रवाई की गई है। प्रह्लाद लोधी के पास उच्च न्यायालय जाने का मौका है। हम इसके खिलाफ कोर्ट जाएंगे। हमें पूरा भरोसा है कि प्रह्लाद लोधी को न्याय मिलेगा। वहीं आने वाले समय में 2 से 3 विधायक बढ़ने वाले सीएम कमलनाथ के बयान पर शिवराज ने पलटवार…करते हुए कहा कि अहंकार किसी का नहीं रहता है। कांग्रेस सरकार प्रदेश को लूटने में लगी है। कांग्रेस के इस अंहकार का जबाब हम देगें।

वहीं किसान मुआवजे को लेकर शिवराज ने कहा कि कांग्रेस बजट न होने का नाटक कर रही है। भाजपा के कार्यकाल में जब भी ऐसा संकट आया तो हमने दूसरे कामों को रोककर किसानों को राहत दी। मैं मध्यप्रदेश की जनता की चिंता करता हूं…हम सड़कों पर किसानों के लिए, प्रदेश की जनता के लिए लड़ाई लड़ेंगे। वहीं स्थापना दिवस पर किसी भाजपा नेता को तवज्जो न देने पर उन्होंने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री था तब कार्यक्रम आयोजित करवाता था तब मैं विपक्ष को नेता प्रतिपक्ष आमंत्रित करता था। लेकिन कांग्रेस के मंत्री बेलगाम हो रहे है। वहीं आगामी अयोध्या फैसले पर उन्होंने जनता से अपील की है कि सब शांति और शालीनता बनाएं रखें।

Related posts