महुआ के पेड़ को ‘डॉक्टर’ मानने वाले भक्तों ने पुलिस पर किया पथराव, 6 पुलिसकर्मी घायल

होशंगाबाद। आधुनिकता के दौर में भी अन्धविश्वास की जड़ें गहरी करने वाला एक मामला मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले के पिपरिया क्षेत्र से सामने आया है। यहां के नयागांव में महुआ का एक पेड़ है जो पुलिस के लिए मुसीबत का सबब बन गया है। दरअसल, लोगों की ऐसी मान्यता है कि महुआ के इस पेड़ को रविवार और बुधवार को छूने से बीमारी दूर हो जाती है। लोगो का दावा है कि इस पेड़ में दैवीय शक्ति है जिससे लोगो का इलाज हो रहा है। कल बुधवार को फिर सैंकड़ों ग्रामीण पेड़ को छून के लिए पहुंच गए। तभी  ग्रामीणों और पुलिस के बीच टकराव हो गया। इस दौरान ग्रामीणों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। हमले में टीआई सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल हो गए। अगर पुलिसकर्मी वहां से भागते नहीं तो हमला जानलेवा हो सकता था।

बता दें कि करीब एक महीने से यहां जंगल में करीब 25 साल पुराने महुआ के पेड़ को लेकर अफवाह फैली हुई है। वहीं कहा जा रहा है कि इस महुआ के पेड़ को पांच रविवार या बुधवार को छुने से किसी भी असाध्य बीमारी से छुटकारा मिल जाता है। फिर क्या देखते ही देखते यहां लोगों का हुजूम उमड़ने लगा। तब से अब तक हजारों की संख्या में लोग सुबह से शाम तक यहां आ रहे हैं। इसी अंधविश्वार के चलते बुधवार को जंगल में पेड़ को छुने जाने के लिए हजारों लोग पहुंचने लगे। पहले तो पुलिसकर्मियों ने लोगों को समझाने की कोशिश की। लोग नहीं माने तो थोड़ा बल प्रयोग किया। इसके बाद ग्रामीण भड़क गए और पुलिस पर पथराव कर दिया।

Related posts