मध्यप्रदेश को शराबी प्रदेश न बनाए सरकार: शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार की नई आबकारी नीति की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश को शराबी प्रदेश न बनायें। हमारे समय मे भी आबकारी के कई प्रस्ताव आते थे पर हमने सहमति नही दी। नर्मदा के 5 किलोमीटर में जो दुकाने आती थी उन्हें बन्द किया। सरकार के शराब नीति को लेकर अपने अपने तर्क है।

वहीं शराब की दुकानों में आहता खोलने पर शिवरोज सिंह ने कहा कि सरकार का अजीब तर्क है कि जो लोग खड़े होकर पीते थे उन्हें बैठा कर पिलायेंगे। अब बार देर रात तक खुलेंगे जिससे अपराध बढ़ेगा। क्या रेवेन्यू बढ़ाने के लिए अपराध बढ़ाएंगे…शराब को लेकर सरकार का फैसला प्रदेश को विकास की तरफ नही विनाश की तरफ ले जाएगा। महिला अपराध प्रदेश के लिए चिंता का विषय है, नशे में ऐसे अपराध ज्यादा होते हैं, यह विनाशकारी फैसला है। सरकार से हम मांग करते हैं कि ये फैसला बदला जाए वरना हम इसका विरोध करेंगे।

Related posts